Bhagvat Geeta | Bhagwat Gita | My Favorite Book | Meri priya Pustak

किताबें हमारी सबसे अच्छी दोस्त हैं।
किताबें आत्मा और मन के लिए भोजन हैं। पुस्तकें हमारे दुखों में हमें सांत्वना दे सकती हैं और जीवन की चिंताओं को भूलने में मदद कर सकती हैं।
मैंने जो भी किताबें पढ़ी हैं, उनमें से मुझे भगवत गीता सबसे ज्यादा पसंद है।
भगवत गीता हिंदुओं का पवित्र ग्रंथ है। यह मेरा सच्चा मार्गदर्शक है और कभी असफल नहीं होने वाला मित्र है। मुझे हर सुबह भगवत गीता पढ़ना अच्छा लगता है। जब से मैं स्कूल में थी मेरी माँ ने मुझे भगवत गीता दी।
मेरी सबसे प्रिय पुस्तक भगवद गीता है।

मेरी सबसे प्रिय पुस्तक भगवद गीता है।

भगवत गीता ज्ञान और सदाचार का एक भंडार गृह है। यह मुझे जीवन में सफलता का रहस्य सिखाता है। गीता आत्म प्रयास, कर्तव्य के प्रति समर्पण और अच्छे कार्यों के महत्व को बताती है। गीता जीवन के अंधेरे घंटों में रोशनी दिखाती है। यह हमें सिखाता है कि लंबे समय में बुराई पर अच्छाई जीतती है। मैं गीता की पूजा करता हूं और उसमें दृढ़ विश्वास रखता हूं।
इससे मुझे मानसिक शांति और खुशी मिलती है।
यह दुनिया की सर्वश्रेष्ठ पुस्तकों में से एक है और इसका कई भाषाओं में अनुवाद किया गया है। हिंदुओं का मानना ​​है कि अगर इसे मृत्यु के समय पढ़ा जाए तो यह मोक्ष लाता है। मैं गीता को उसके नैतिक दर्शन और सच्चे मार्गदर्शन के लिए सम्मान देता हूं।

एक महान धार्मिक पुस्तक होने के अलावा, गीता को संस्कृत साहित्य का एक महान कार्य भी माना जाता है। गीता भारतीय चिंतन का आधार है। यह शुद्ध हिंदू विचार का प्रतीक है। पीढ़ियों से, हमारे विचारक और नेता इस महान पुस्तक से प्रेरित रहे हैं। महात्मा गांधी गीता से गहराई से प्रभावित और प्रेरित थे।

Language‎ in which Original Bhagvat Gita is written: ‎Sanskrit
Bhagvat Gita Author‎: ‎Veda Vyasa
Verses‎ in Gita: ‎700

Bhagvat Gita was authored by Veda Vyāsa (वेदव्यास, veda-vyāsa, “the one who classified the Vedas”)
Veda Vyasa is also considered the author of the Mahabharata.

kitaaben hamaaree sabase achchhee dost hain.
kitaaben aatma aur man ke lie bhojan hain. pustaken hamaare dukhon mein hamen saantvana de sakatee hain aur jeevan kee chintaon ko bhoolane mein madad kar sakatee hain.
mainne jo bhee kitaaben padhee hain, unamen se mujhe bhagavat geeta sabase jyaada pasand hai.
bhagavat geeta hinduon ka pavitr granth hai. yah mera sachcha maargadarshak hai aur kabhee asaphal nahin hone vaala mitr hai. mujhe har subah bhagavat geeta padhana achchha lagata hai. jab se main skool mein thee meree maan ne mujhe bhagavat geeta dee.
bhagavat geeta gyaan, gyaan aur sadaachaar ka ek bhandaar grh hai. yah mujhe jeevan mein saphalata ka rahasy sikhaata hai. geeta aatm prayaas, kartavy ke prati samarpan aur achchhe kaaryon ke mahatv ko bataatee hai. geeta jeevan ke andhere ghanton mein roshanee dikhaatee hai. yah hamen sikhaata hai ki lambe samay mein buraee par achchhaee jeetatee hai. main geeta kee pooja karata hoon aur usamen drdh vishvaas rakhata hoon.
isase mujhe maanasik shaanti aur khushee milatee hai.
yah duniya kee sarvashreshth pustakon mein se ek hai aur isaka kaee bhaashaon mein anuvaad kiya gaya hai. hinduon ka maanana ​​hai ki agar ise mrtyu ke samay padha jae to yah moksh laata hai. main geeta ko usake naitik darshan aur sachche maargadarshan ke lie sammaan deta hoon.
ek mahaan dhaarmik pustak hone ke alaava, geeta ko sanskrt saahity ka ek mahaan kaary bhee maana jaata hai. geeta bhaarateey chintan ka aadhaar hai. yah shuddh hindoo vichaar ka prateek hai. peedhiyon se, hamaare vichaarak aur neta is mahaan pustak se prerit rahe hain. mahaatma gaandhee geeta se gaharaee se prabhaavit aur prerit the.