Unity Hindi Essay एकता

Unity Hindi Essay एकता
290 votes, 4.12 avg. Essay rating (82% score)

कहावत है कि अकेला चना भाड़ नहीं फोड़ सकता परन्तु एकता में अपार शक्ति है । जंहा एकता है वंहा कोई किसी का बुरा नहीं कर सकता । जंहा एक से दो हुए हमारी शक्ति दुगनी नहीं, कई गुना हो जाती है।

भारत कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक फैला एक विशाल देश है । हमारे देश में 120 करोड़ से अधिक विभिन्न धर्मों के लोग रहते हैं । इतिहास इस बात का साक्षी है कि जब जब हमारी एकता टूटी है विदेशियों ने हमें अपना गुलाम बनाया है । एकता की महता को सिद्ध करने के लिए कई कहानियां भी हैं । जिसमें एक बूढ़ा पिता और उसके चार बेटों की कहानी बहुत प्रसिद्ध है ।

जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में एकता दिखायी देती है । एक धागे को छोटा बच्चा भी तोड़ सकता है पर उन्ही धागों से बनी रस्सी को हाथी भी नहीं तोड़ सकता । एकता से प्राप्त होने वाली सफलता का शानदार उदाहरण पेश करती हैं चींटियाँ । वे मिलजुल कर हर कठिन काम को आसानी से कर लेती हैं । मधु-मखियाँ भी मिलकर शहद इक्क्ठा करती हैं ।

आज एकता के मार्ग में कई रोड़े हैं । कुछ लोग अपने स्वार्थ के लिए भाषा, जाति, धर्म आदि की दीवारें खड़ी करते हैं । इससे देश की एकता टूटती है और शत्रु देश पर अधिकार कर सकता है । हमारा इतिहास सचेत करता है कि भूलकर भी कभी किसी के बहकावे में न आओ । मानसिंह, जयचंद और मीर जाफर जैसे लोग देश का अहित ही करते हैं । अतः सभी को एकता में रहना चाहिए इसी में ही हमारी और देश की भलाई है ।