MR.R.VENKATARAMAN Indian President

MR.R.VENKATARAMAN

४ दिसंबर १९१० में तमिलनाडु में तंजौर के निकट पट्टुकोत्तय में राम स्वामी वेंकटरमण का जन्म हुआ था। इनकी प्रांरभिक शिक्षा अधिकतर चेन्नई में ही सम्पन्न हुई। इन्होने मद्रास विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में स्नातकोत्तर और मद्रास के ही लॉ कॉलेज से कानून की पढ़ाई पूरी की थी। इंन्हे कानून के प्रकांड पंडित भी कहा जाता हैं। इन्होने १९३५ में मद्रास उच्च न्यायालय से वकालत शुरू की। १९५१ में अपनी योग्यता के बल पर उच्चतम न्यायलय में वकालत करनी शुरू की। यह एक दक्षिण भारतीय श्रमिक संघी थे। यह एक व्यावहारिक व्यक्त्वि वाले मनुष्य थे। अपनी कानून की पढ़ाई पूरी करने के तुरत बाद ही स्वतंत्रता संग्राम में शामिल हो गए थे। १९४२ में इन्होने भारत छोड़ो आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। इनकी वकालत में श्रेष्ठता को आंकते हुए भारत सरकार ने इन्हे देश के उत्कृष्ट वकीलों की टीम में स्थान दिया। १९४७ से १९५० तक यह महाराष्ट्र बार असोसिएसन के सचिव पद पर रहे। १९५२ से १९५७ तक यह देश की पहली संसद के भी सदस्य रहे। १९५३ से १९५४ तक भरतीय कांग्रेस के सचिव पद पर भी कार्य किया। १९६७ में इन्हे योजना आयोग का सदस्य भी बनाया गया । १९८० में लोकसभा चुनाव के बाद इंदिरा गांधी सरकार में वित्त मंत्री के रूप में कार्य किया। इसके कुछ समय पश्चात ही इन्हे रक्षा मंत्री भी बनाया गया । अगस्त १९८४ में यह देश के उपराष्ट्रपति चुने गए । इस दौरान इन्हे इंदिरा गांधी शांति पुरुस्कार व् जवाहरलाल नेहरू आवर्ड फॉर इंटरनेशनल के निर्णायक पीठ के अध्यक्ष के पद पर भी नियुक्त किये गए । २५ जुलाई १९८७ को इन्हे आठवें राष्ट्रपति बनाया गया। ९८ वर्ष की आयु में २७ जनवरी २००९ को एक लम्बी बीमारी से जूझते हुए दिल्ली के आर्मी अस्पताल में इन्होने अपने प्राण त्याग दिए ।