हमारा राष्ट्रध्वज (तिरंगा झंडा) Indian Tricolor Flag

दुनिया में हर देश का अपना सविंधान और अपना झंडा होता है I हमारे देश का तिरंगा झंडा भी हमारे देश के का प्रतीक है I तिरंगे के नीचे ही स्वतंत्रता संग्राम लड़ा गया, इसी कारण यह ध्वज हमारे देश के तप-त्याग और बलिदान की निशानी है I इस झंडे का पहला रूप 1906 में विदेशों में रहने वाले भारतीयों ने किया I इसमें तीन रंगों, हरे, पीले, लाल की पट्टियां थी I 1921 में गांधी जी ने नये झंडे की रचना की I ऊपर सफेद, मध्य में हरा और नीचे लाल रंग की 3 पट्टियां बनायीं गयी, बीच में भारत के प्रसिद्ध सूत कातने वाले चरखे का निशान बनाया गया I 1931 में नया झंडा बनाया गया I ऊपर केसरिया रंग कि पट्टी, मध्य में सफेद और नीचे हरे रंग कि एक समान पट्टियां जोड़ी गई I
केसरिया रंग वीरता और त्याग का सूचक माना गया I सफेद रंग शांति, सत्य और पवित्रता का चिन्ह माना गया I हरा रंग श्रदा-विश्वास और देश की हरियाली और समृद्धि का प्रतीक माना गया I इसी को राष्ट्रध्वज माना गया I आजादी के बाद इसमें चरखे के स्थान पर अशोक चक्र का चिन्ह छापा गया और राष्ट्रध्वज का समानित पद देकर पुरे देश में फहराया गया I तिरंगा भारत की स्वतंत्रता और आत्म-सम्मान का प्रतीक है I सारे भारतवासी तिरंगे का सम्मान करते हैं I