Human Biotechnology

मानव जीव-विज्ञानं
1977 में एक क्लोन भेड़ के जन्म से एक बड़ी हलचल हुई। इसका मतलब यह था की मनुष्य अब भगवान् के कार्य को अपने हाथ में ले सकता था।
यह बातचीत 1998 में मानव भ्रूण स्टेम कोशिकाओं के अलगाव के साथ और अधिक जटिल हो गयी। मानव और आनुवंशिक संशोधनों की क्लोनिंग भविष्य की संभावनाओं हैं और उभरती प्रौद्योगिकियों जैविक परिवर्तन की धार हो सकता है।

इस तरह की घटनाएं आदमी अपने विकासवादी भविष्य को नियंत्रित करने और उसे अपने बच्चों की जीन का चयन करने के लिए सक्षम बनाती हैं।
प्रजनन जीव विज्ञान में यह कदम बच्चों के रोगों से मुक्त होना और लंबे समय तक जीना सुनिश्चित करेगा.