Hindi Essay on Make in India

Make in India

मेक इन इंडिया भारत सरकार द्वारा प्रस्तावित एक कार्यक्रम है जिसमे भारत में अपने उत्पादों का निर्माण करने के लिए बहुराष्ट्रीय कंपनियों और घरेलू कंपनियों को प्रोत्साहित किया जा रहा है।

दरअसल, इसका मतलब है कि अच्छी और जरूरत की चीजों का निर्माण ज्यादा से ज्यादा भारत में होगा। इस योजना के तहत प्रधानमंत्री चाहते हैं कि जरूरत चीजों के पैकेट या कहें वस्तु पर मेड इन इंडियालिखा हो। यह शब्द वस्तु पर तभी अंकित किया जा सकता है जब वस्तु का निर्माण भारत में हुआ हो।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया आंरभ

इसका आंरभ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने २५ सितम्बर २०१४ को किया था। इस आयोजना का लक्ष्य भारत में रोजगार और कौशल क्षमता को बढ़ाना है। अर्थव्यवस्था की दृष्टि से ये २५ क्षेत्रों में लागु किया है जिनमे से कुछ है ऑटोमोबाइल, रसायन, आईटी, फार्मा, वस्त्र, बंदरगाह, विमानन, चमड़ा, पर्यटन और आतिथ्य, कल्याण, रेलवे, डिजाइन, विनिर्माण, अक्षय ऊर्जा, खनन, जैव प्रौद्योगिकी, और इलेक्ट्रॉनिक्स।

इस आयोजना का अहम फायदा ये है की देश में बनी वस्तु की कीमत कम होगी। इसके अलावा अगर वस्तु का निर्माण भारत में ही होगा तो उसका निर्यात कर भी राजकीय खजाने को भरा जा सकता है। ये कार्यक्रम रचनात्मक पहल है जो भारत के उज्जवल आद्योगिक भविष्य के लिए नींव की ईंट साबित होगी।