Friendship Hindi Essay मित्रता

मित्र के बिना जीवन अधूरा होता है । मित्र जीवन के रोगों की औषधि होती है, इसलिए मित्रता का बहुत महत्व है । हर प्राणी घर से बाहर मित्र की तलाश करता है ।

मित्र जीवन का वह साथी है जो हर बुराई से हमें बचाता है । हमें भलाई की ओर बढ़ाने के लिए साधन जुटाता है । पतन से बचाकर उत्थान के पथ पर लाता है, वह मित्र है । धर्म ग्रंथों में ऐसे ही मित्रों के गुण गाये गये है, अर्जुन-कृष्ण की मित्रता, श्रीकृष्ण-सुदामा कि मित्रता । श्रीराम और सुग्रीव की मित्रता एक पवन सम्बन्ध की सूचक है ।

श्रीकृष्ण ने आपत्ति में पड़े अर्जुन की हर समय सहायता की । श्रीकृष्ण और सुदामा की मित्रता लोक प्रसिद्ध है । सुदामा गरीब ब्राह्मण था और प्रभु श्रीकृष्ण राजा थे तो भी श्रीकृष्ण जी ने मित्रता का फर्ज निभाया और सुदामा की मदद की । जीवन का सहारा, दुःख का साथी मित्र बनाते समय लोग बुद्धिमानी से काम नहीं लेते हैं ।

कई बार छली, कपटी आदमी मित्रता की आड़ में अपना मतलब निकालते हैं । ऐसे लोगों से बचना चाहिए । मित्रता के सच्चे भाव को समझना चाहिए । सच्चा मित्र हर सुख-दुःख में साथ देता है । स्वार्थी मित्र संकट के समय साथ छोड़ देते हैं । अतः मित्रता करने में सावधानी बरतनी चाहिए । तुलसीदास जी ने कहा है-
जो मित्र दुःख होई न दुखारी,
तिनहि विलोकत पातक भारी ॥