Essay on Pollution In Hindi | Essay In Hindi About Pollution

Essay on Pollution In Hindi | Essay In Hindi About Pollution
1802 votes, 3.98 avg. Essay rating (79% score)

Essay on Pollution
प्रदषूण की समस्या पर 250 शब्दो का ननबन्ध लिखो।

Write an Essay on Pollution in about 250 words.
पर्यावरण प्रदूषण उस स्थिति को कहते हैं जब मानव द्वारा पर्यावरण में अवांछित तत्वों एवं ऊर्जा का उस सीमा तक संग्रहण हो जो कि पारिस्थितिकी तंत्र द्वारा आत्मसात न किये जा सकें।

 
Growing Pollution On Earth Hindi Essay धरती पर बढ़ता प्रदूषण
हमारी धरती आज बहुत समस्याओं से जूझ रही है I इसमें बढ़ता प्रदूषण एक गम्भीर समस्या है I आज जल प्रदूषण, थल प्रदूषण, वायु प्रदूषण और ध्वनि प्रदूषण बहुत विराट समस्या बन चुके हैं I
आज हमारे देश की नदियां बहुत प्रदूषित हो चुकी हैं, नदियों के किनारे लगे कारखाने अपना सारा कूड़ा नदियों मैं फैंक देते हैं I इससे सारी नदियां बहुत प्रदूषित हो चुकी है, कभी जीवनदायनी कहलाने वाली गंगा आज जहरीली हो चुकी है I देश में कारखानों और गाड़ियों की बढ़ती संख्य़ा से हवा भी जहरीली हो गयी है जिसके कारण लोगों में बहुत सारी बीमारियां उत्पन्न हो रही हैं I
वायु प्रदूषण और जल प्रदूषण की वजह से लोग आकस्मिक मौत मर रहे हैं I देश में प्लास्टिक के प्रयोग से मिटटी भी प्रदूषित हो रही है I इसकी उपजाऊ क्षमता बहुत कम हो रही है, फसल में रसायनिक खाद और हानिकारक कैमिकलों के प्रयोग से मिटटी की उर्वरा क्षमता बहुत कमजोर हो गयी है I
इसका मुख्य कारण किसानों में जागरूकता का न होना है I ध्वनि प्रदूषण भी एक भयंकर समस्या है I वाहनों के बढ़ते शोर, लाउड स्पीकरों के शोर से और शादी-समारोह में बढ़ते डी जे के बढ़ते चलन से लोगों में सुनने की क्षमता कम हो रही है, खासकर बच्चे इसका बहुत जल्दी शिकार हो रहे है I प्रदूषण समस्या को रोकने के लिए लोगों का जागरूक होना बहुत जरुरी है I
इन सभी समस्याओं से निजात पाने के लिए लोगों को खुद काम करना पड़ेगा जैसे प्लास्टिक का प्रयोग न करना, शादी-समारोह में डी जे आदि का प्रयोग न करना, धुंआ आदि न फैलाना, पानी में कचरा और कैमिकल न फैंकना I यदि हर व्यक्ति अपनी जिम्मेदारी समझे तो इन भयंकर समस्याओं से आसानी से निपटा जा सकता है I

=========
प्रदूषण प्रतिकूल परिवर्तन का कारण है कि प्राकृतिक वातावरण में contaminants की शुरूआत है. प्रदूषण शोर, गर्मी या प्रकाश के रूप में रासायनिक पदार्थ या ऊर्जा का रूप ले सकता है. प्रदूषण, प्रदूषण के घटकों, विदेशी तत्वों / ऊर्जा या प्राकृतिक रूप से उत्पन्न contaminants या तो किया जा सकता है.
आओ प्रदूषण और उसके नियंत्रण से संबंधित कुछ बुनियादी अवधारणाओं से परिचित हो.

Pollution in any form is harmful & all efforts should be made to avoid it.

Pollution Can take up many forms

  • Air pollution
  • Light pollution
  • Littering
  • Noise pollution
  • Soil contamination
  • Radioactive contamination
  • Thermal pollution
  • Visual pollution
  • Water pollution

Air pollution in major Asian cities is associated with many premature deaths in a year. Highly polluted rivers, inadequate water and sanitation, agricultural and industrial pollution also contribute to freshwater scarcity, poor health, and deaths.

NOISE POLLUTION

Pollution Hindi Essay
हम शोर के बारे में क्यों चिंता करनी चाहिए ?
ध्वनि प्रदूषण मनुष्य और जीवों पर एक गंभीर प्रभाव लाती है. शोर प्रदूषण के कुछ प्रतिकूल प्रभाव नीचे संक्षेप हैं .

  • झुंझलाहट
  • मनोवैज्ञानिक प्रभाव
  • सुनवाई के नुकसान
  • मानव प्रदर्शन
  • तंत्रिका तंत्र
  • अनिद्रा
  • सामग्री को नुकसान

शोर पर नियंत्रण तकनीकों के प्रकार हैं

· स्रोत पर नियंत्रण
· संचरण पथ में नियंत्रण
· सुरक्षा उपकरण का उपयोग करना.

 

वायु प्रदूषण के प्रमुख स्रोत

  • कार्बन मोनो आक्साइड (CO)
  • कार्बन डाई आक्साइड (CO2)
  • क्लोरो-फ्लोरो कार्बन (CFC)
  • लैड (Lead)
  • ओजोन (Ozone)
  • नाइट्रोजन आक्साइड (NO)
  • सल्फर डाई आक्साइड (SO2)

 

भारत सरकार द्वारा पर्यावरण (संरक्षण)  अधिनियम 1986 एवं इससे संबंधित नियमावली के अन्‍तर्गत ध्वनि प्रदूषण (विनियमन और नियंत्रण) नियम, 2000 बनाया गया है। इस नियम में अस्पतालों, शैक्षिक संस्थाओं और न्यायालयों के आस-पास कम से कम 100 मीटर तक के क्षेत्र को शान्त क्षेत्र/परिक्षेत्र घोषित किया गया है।