Epic Ramayana Hindi Essay रामायण

रामायण और महाभारत भारत के प्राचीन धार्मिक ग्रन्थ हैं । इनका ऐतिहासिक और शैक्षणिक महत्व इतना अधिक है कि कोई भी अन्य पुस्तक इनके समान मानव पर प्रभाव डालने में समर्थ नहीं है ।

रामायण बहुत सी भाषाओं में भिन्न-भिन्न नामों से प्रचलित है । सबसे पहले रामायण संस्कृत भाषा में आदि कवि महर्षि बाल्मीकि जी ने लिखी । उसके बाद हर युग में अनेक भाषाओं में रामायण लिखी गई । सबसे ज्यादा लोकप्रियता तुलसीदास जी की लिखी “रामचरितमानस” को मिली । रामायण में हर कार्य आदर्श दिखाया गया है ।

रामायण हमें बताती है कि मर्यादित जीवन कैसा होता है । प्रभु श्री राम जी को मर्यादा पुरषोत्तम कहा गया है । सारे जीवन में उन्होंने कभी मर्यादा का उलंघन नहीं किया । रामायण में भाइयों के प्रेम को दर्शाया गया है । श्री राम अपने पिता की आज्ञा से वनवास को चले गये और जब उनके छोटे भाई भरत को पता लगा कि उनकी माता कि वजह से उनके भाई को वनवास हुआ है तो वह राजगद्दी पर नहीं बैठे ।

लक्ष्मण और शत्रुघ्न के स्नेह भी आदर्श है । रामायण में पतिव्रता स्त्री के रूप में माता सीता और उर्मिला महान आदर्श रखती हैं । रामायण ही हमें श्री हनुमान जैसा सेवक और योद्धा दिखाती है । यंहा तक रावण का भी जीवन आदर्श दिखाया गया है । इस तरह रामायण कई शिक्षाओं से भरी पड़ी है । अच्छे संस्कारों के लिए हमें और अपने बच्चों को रामायण जरुर पढ़ानी चाहिए ।