EID FESTIVAL | IDUL FITAR

EID FESTIVAL | IDUL FITAR
86 votes, 4.31 avg. Essay rating (86% score)

EID

ईद उल फितर रमजान महीने के खत्म होने मनाया जाता है । इस दिन सेवइयां आदि बनाई जाती है । ईद फितर भूख प्यास सहन करने के एक महीने तक ईश्वर या खुदा को याद करने वाले रोजेदारों को अल्लाह का इनाम है । इस दिन लोग अपने पुराने लड़ाई झगडे भूलकर एक दूसरे से गले मिलते है । दुनिया में चाँद देखकर रोजा रखने और चाँद देखकर रोजा तोडना एक पुरानी परम्परा है ।

इस दिन लोग सुबह सुबह उठ कर स्नान करके नमाज पढ़ने जाते है । जाते वक्त सफेद कपड़ा और इत्र लगाना बहुत शुभ माना जाता है । रमजान महीने के समाप्त होने पर ईद के दिन चाँद देखकर रोजा समाप्त किया जाता है । रोजा समाप्त होने के बाद दिखने वाला फेल चाँद ईद का चाँद कहलाता है । यह मुसलमानो का बड़ा प्यारा चाँद होता है । अगले दिन सब इकट्ठे होकर स्नान आदि करके ईदगाह में नमाज पढ़ते है । सब मिलकर परमात्मा को शुक्रिया करते है । इस दिन सब आपस में सारे गीले शिकवे भुलाकर मिल जुल कर त्यौहार मानते है । प्रत्येक समाज में अपने अलग अलग त्यौहार मनाये जाते है और उनका अपना अपना अलग महत्व होता है ।