Dr. Rajendra Prasad President Of India Hindi Biography

 

Dr. राजेन्द्र प्रसाद का जन्म ३ दिसंबर,१८८४ में बिहार के एक छोटे से गाव जीरादेई में हुआ था । एक बड़े सयुंक्त परिवार के सबसे छोटे सदस्य होने के कारण इनका बचपन बहुत प्यार और दुलार से बीता।

इनके पिता का नाम महादेव सहाय था । इनकी शिक्षा का आरंभ उन्ही के गाव जीरादेई में हुई । शिक्षा  तरफ इनका रुझान बहुत था । इस समय बाल विवाह का बहुत प्रचलन था इस कारण इनका विवाह १२ वर्ष की आयु में ही हो गया ।

इनकी पत्नी का नाम राजवंशी देवी था । अपनी शिक्षा को आगे बढ़ाने के लिए उन्होंने कलकत्ता विश्विद्यालय में प्रवेश परीक्षा दी । जिसमे उन्होंने प्रथम स्थान प्राप्त किया । जिसके लिए उन्हें ३० रूपये महीने की छात्रवृति भी दी  गई । सन   १९०२ में उन्होंने कलकत्ता प्रेसिडेंसी कॉलेज में प्रवेश लिया । सन  १९१५ मेंउन्होंने कानून में मास्टर की डिग्री में विशिष्टता पाने के लिए उन्हें सोने का मेडल मिला । इसके बाद उन्होंने कानून में डॉक्टरेट की उपाधि भी प्राप्त की । राजेन्द्र प्रसाद एक विद्वान और प्रतिभाशाली पुरुष थे। डॉ। राजेन्द्र प्रसाद जी राजनैतिक में तब आए जब उन्होंने गांधी से प्रेरित होकर विदेशी कपड़ो को पहनना छोड़ दिया । राजेंद्र प्रसाद राष्ट्रीय कांग्रेस के एक से अधिक बार अध्यक्ष बने । चाहे भारत देश का १५ अगस्त १९४७ में स्वतंत्रता प्राप्त हुई परन्तु सविंधान सभा का गठन उससे पहले ही कर ली गई थी जिसके अध्यक्ष डॉ राजेन्द्र प्रसाद थे ।  जनवरी १९५० को भारत गणतंत्र बना और देश को अपना पहला राष्ट्रपति डॉ राजेन्द्र प्रसाद मिल गया । १९६२ में इन्हे ”भारत रतन”से पुरुस्कृत  राजनीति से संन्यास लेने  बाद इन्होने अपना जीवन पटना के एक आश्रम में बिताया जहाँ २८ फरबरी १९६३ में इनका निधन हो गया ।