Commonwealth Khel The Commonwealth Games Hindi Essay

कॉमन वेल्थ गेम्स
Commonwealth Games

Commonwealth Khel Hindi Essay
राष्ट्रमंडल खेल

कामनवेल्थ गेम्स ब्रिटिश राष्ट्रमंडल अंतर्गत होने वाली खेल प्रतियोगिता है।
राष्ट्रमंडल खेल प्रत्येक चार वर्ष के अंतराल पर आयोजित किये जाते हैं।
पहले ये खेल प्रतियोगिता “ब्रिटिश एम्पायर गेम्स” के नाम से जाने जाते थे।
एश्ले कपूर वे प्रथम व्यक्ति थे जिन्होंने सद्भावना को प्रोत्साहन देने और पूरे ब्रिटिश राज्य में अच्छे सम्बन्ध बनाये रखने के लिए एक खेल कार्यक्रम करने के विचार को प्रस्तुत किया।

फिर वर्ष 1928 में कनाडा के प्रमुख एथलिट बॉबी रॉबिंसन को प्रथम कामनवेल्थ गेम्स के कार्यभार सौंपा गया।
ये खेल पहली बार 1930 में कनाडा के ओंटारियो शहर में आयोजित किये गए और इसमें 11 देशों के 400 खिलाडियों ने भाग लिया।

तब से हर चार वर्ष में राष्ट्र मंडल खेलों का आयोजन किया जाता है।
वर्ष 1942 और 1946 में विश्व युद्ध के कारण इन खेलों का आयोजन नहीं किया गया।
1942 से पहले मूल रूप से इन खेलों में एकल प्रतिस्पर्धात्मक खेल होते थे परन्तु वर्ष 1998 में कौलालम्पुर में आयोजित राष्ट्रमंडल खेलों में पहली बार क्रिकेट, हॉकी और नेटबॉल जैसे खेलों की टीमों ने अपनी उपस्थिति दर्ज की।
वर्ष 1966 में खेल का प्रतीक (लोगो) का इस्तेमाल शुरू हुआ।

प्रत्येक चार वर्षों में होने वाली इस खेल प्रतियोगिता की मेज़बानी करने के लिए देशों का चयन होता है। 7 देशों के 18 शहर अब तक इस खेल की मेज़बानी कर चुके हैं। इन खेलों में मुख्य रूप से 22 खेल होते हैं तथा सात सहायक खेल भी होते हैं।
अतिरिक्त खेलों का चयन मेज़बान राष्ट्र कर सकता है।

मानवता , समानता और नियति – इन तीन मान्यताओं को 2001 में राष्ट्रमंडल खेलों में अपनाया गया।
हज़ारों लोगों को प्रेरणा देने वाली और उन्हें आपस में जोड़े रखने वाली ये मान्यताएं राष्ट्रमंडल खेलों की मूल मान्यताएं बन गयी हैं और इनका सभी करते हैं।