Child Marriage Essay in Hindi बाल विवाह

Child Marriage Essay in Hindi बाल विवाह
19 votes, 3.42 avg. Essay rating (69% score)

Child Marriage Essay in Hindi बाल विवाह

प्राचीन भारत में कई बुरी प्रथाएं प्रचलित थी | उनमें से एक बुरी प्रथा थी बाल विवाह | बाल विवाह भारत की एक प्राचीन प्रथा थी | यह एक बुरी प्रथा थी | यह प्रथा पुराने समय में पुरे भारत में फैली हुई थी |

लोग अपने छोटे छोटे बच्चों की शादी कर देते थे | यह प्रथा एक भयंकर रूप धारण कर चुकी थी | लोग इस प्रथा का विरोध भी नहीं करते थे | फिर कई लोग इस प्रथा के विरोध में आने लगे | इस प्रथा के कारण लड़कियां छोटी उम्र में ही माँ बन जाती थी | इसके कारण कई लड़कियां छोटी उम्र में ही मर जाती थी |

इसके विरोध में कई छोटे छोटे संगठन बन गये और जगह जगह बाल विवाह के खिलाफ प्रचार करने लगे | इस प्रथा के और भी बहुत दुष्परिणाम थे | जाति प्रथा भी इसका मुख्य कारण था | समाज का एक बहुत बड़ा तबका बाल विवाह के पक्ष में था | ज्यादातर लोग अनपढ़ होते थे |आज भी भारत के कई भागों में लड़कियों का विवाह समय से पहले कर दिया जाता है |

यह भी माना जाता था कि पूरी दुनिया में सबसे अधिक बाल विवाह भारत में ही होते थे | फिर सरकार ने विवाह के लिए नये नियम बनाये | शादी के लिए लड़कों की उम्र 21 वर्ष और लड़कियों के लिए 18 वर्ष तय की गई | यही कानून आज पुरे देश में लागु है | अगर कोई व्यक्ति अपने बच्चों की शादी इस उम्र से पहले करता है तो उसके लिए सजा का प्रावधान है | इसके बावजूद कई लोग अपने बच्चों का विवाह पहले कर देते हैं । आज सब लोगों को इन बुराइयों के प्रति जागरूक होने की जरूरत है तभी इसमें देश की भलाई है ।