Bravery Hindi Essay वीरता

कहते हैं-‘वीर बदलते हैं इतिहास देश का’। भय पर आदमी की शानदार जीत ही वीरता है । वीरता चरित्र का स्वाभाविक गुण है । स्थायी साहस एवं चरित्र की स्थिरता का नाम ही वीरता है ।

कभी कभी हम क्षणिक हौंसले को भी वीरता मान लेते हैं पर जो सच्चा वीर है, वह धीर और गम्भीर भी होता है । वह अपने साहस का दुरूपयोग नहीं करता और न ही उसका दिखावा करता है । संसार में वीरों का सदा सम्मान होता है । ऐसे ही वीर देश का इतिहास बदलते हैं, राष्ट्र का निर्माण करते हैं । ऐसे ही देशभक्त वीर राष्ट्र के भाग्य-विधाता होते हैं।

अभिमन्यु, पृथ्वीराज चौहान, महाराणा प्रताप, शिवाजी महाराज, गुरु गोबिंद सिंह, शहीद भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, नेताजी सुभाषचंद्र बोस जैसे अनेक महान वीर हमारे देश में हुए हैं । इन्होने अपनी अद्भुत वीरता और अद्मय साहस से देश की रक्षा की । ऐसे रणबांकुरे वीरों से हमारे देश का इतिहास भरा पड़ा है । स्वभाव की दृढ़ता और मनोबल का दूसरा नाम वीरता है ।

प्रकृति भी हमें वीरता की प्रेरणा देती है । समुद्र में लहरों की तरंगों, हवा के झोकों में, मेघ के गरजन में यही सिंघनाद सुनाई देता है । वीरता का दूसरा नाम बलिदान है । हमारे देश के लिए अनके वीरों ने अपने प्राणों की आहुति दी । आततायी कभी वीर नहीं हो सकता । सच्चा वीर दम्भ से दूर रहता है और हमेशा दूसरों की रक्षा करता है ।